Ticker

6/recent/ticker-posts

Temple Architecture | मंदिर वास्तुकला

 

Temple Architecture | मंदिर वास्तुकला


Indian Temple Architecture / भारतीय मंदिर वास्तुकला

टेम्पल आर्किटेक्चर एक बहुत ही बड़ा और रोचक विषय है। हिंदू धर्म में, मंदिरों को एक शुभ और शांतिपूर्ण स्थान माना जाता है। यह एक ऐसा स्थान होता है जो नकारात्मक ऊर्जा और विभिन्न ब्रह्मांडीय किरणों से मुक्त रहता है। मंदिरो का निर्माण गुप्तकाल से शुरू हुआ, उस समय में मंदिर स्थानीय स्तर पर उपलब्ध सामग्री जैसे पत्थरों आदि से बनाए जाते थे। मंदिरों का निर्माण ऊँचे उठे हुए प्लेटफार्मों में किया जाता था और सूर्य की दिशा के अनुसार 'देवता या भगवान' की प्रतिमा को स्थापित किया जाता था।

टेम्पल आर्किटेक्चर अलग अलग स्थान पर विभिन्नताओ के साथ देखने को मिलता है। डिजाइन की द्रष्टि से विवरण और नक्काशी में, भारत के उत्तरी क्षेत्र के मंदिर दक्षिणी क्षेत्र के मंदिरो भिन्न हैं। विभिन्न डिजाइन एलिमेंट्स या मंदिरों के हिस्सों के बीच का अंतर अधिकांश क्षेत्रों में देखा जाता है, जो भारत के एक विशेष क्षेत्रों की संस्कृति या मूल्यों पर आधारित होता है।

इस पोस्ट में, हम मंदिर वास्तुकला, इसके वर्गीकरण, एलिमेंट्स, महत्व और इसके विकास पर चर्चा कर रहे हैं।

History / इतिहास

  • हिंदू मंदिरों के निर्माण की शुरुआत गुप्त काल या गुप्त वंश में हुई थी।
  •  गुप्त वंश के लोग ही पहले वास्तुकार थे, जिन्होंने हिंदू मंदिरों के (लेकिन कभी-कभी बौद्धों) निर्माण का कार्य किया, तथा ये कला रॉक-कट मंदिरों (Rock-cut Temple) की परंपरा से विकसित (evolved) हुई थी। (गुप्त वंश, में चंद्रगुप्त प्रथम ने चौथी से छटवी शताब्दी के बीच उत्तर मध्य भारत में शासन किया था, तथा इस अवधि को ही कलात्मक उपलब्धि के साथ 'भारत का स्वर्ण युगभी माना जाता है।
  • इस अवधि के दौरान ब्राह्मणवाद को पुनर्जीवित किया गया तथा, धार्मिक भावना के फलस्वरूप मंदिरों का निर्माण कार्य हुआ।

Development of Temple Architecture / मंदिर वास्तुकला का विकास

  •  भारत के Temple Architecture को स्थपतिः और शिल्पी लोगों की रचनात्मकता से विकसित किया गया था, ये दोनों ही जाती के लोग शिल्पकारों के बड़े समुदाय संबंधित थे। जिन्हे विश्वकर्मा कहते थे।
  • हिन्दू मंदिर वास्तुकला धर्म, आस्था, विश्वास, नैतिकता तथा हिन्दू धर्म में जीवन जीने की कला के मिश्रण को दर्शाता है। 
  • भारत में हिंदू मंदिरों के वास्तु सिद्धांतों को शिल्पशास्त्र तथा वास्तुशास्त्रों में वर्णित किया गया है, जिसमें लौकिक मूल्यों, दिशाओं और अलंकारों का उचित संबंध बतया गया है। 

Classification / वर्गीकरण

  • छोटे हिंदू मंदिरों में एक आंतरिक पवित्र स्थान (sanctum) होता है, जिसे गर्भ-ग्रह या गर्भ कहते है। जहां देवी,देवताओं की प्रतिमा या मूर्ति स्थापित होती है।  तथा एक सामूहिक हॉल(congregation) या एक पोर्च होता है जिसे प्रदक्षिणा पथ या परिधि circumambulation कहा जाता है। हिन्दू मंदिर में गर्भ-गृह के ऊपर एक  मीनार (Tower) बना हुआ होता है जिसे शिखर कहते है। 
  • गुप्त काल के मंदिरों की वास्तु कला अपनी विभिन्न विशेषताओं के साथ साथ शैली (style) और डिज़ाइन में बहुत विविधता समेटे हुई है जैसे :- 

Features of Gupta's Temples / गुप्ता काल के मंदिरों की विशेषताएं

  1. मचान(चबूतरा) - गुप्तकाल में मंदिरो का निर्माण ऊँचे मचान पर किया गया। तथा मचान के ऊपर पहुंचने के लिए चारों और सीढ़ियों का प्रावधान होता था। 
  2. शिखर - शुरुआत में मंदिरों की छत समतल होती थी, परन्तु बाद में मंदिरों में एक सजावटी शिखर का निर्माण होने लगा। 
  3. बाहरी दीवार - मंदिरों की बाहरी दीवारों को बिना किसी अलंकरण के सरल तथा सदा रखा जाता था। तथा चिनाई को बारीक़ पलस्तर किया जाता था।
  4. गर्भ-ग्रह - गर्भ-ग्रह या भगवन का घर, यह एक पवित्र स्थान होता है। जिसका प्रवेश द्वार नक्काशी के साथ सजावटी होता है तथा प्रवेश स्तम्भों पर गंगा और यमुना की प्रतिमा होती है। 
  5. प्रदक्षिणा पथ ( Circum-Ambulatory path )  - गर्भगृह के चारों ओर एक प्रदक्षिणा पथ (परिधि-पथिक पथ) निर्माण किया जाता था।
  6. स्तम्भ तथा मंडप - मंदिर की छत  चार अलंकृत खम्बों पर समर्थित (supported) होती है, इन खम्बो के ऊपर  एक चौकोर पत्थर को कैपिटल के रूप में उपयोग किया जाता था जिसका उपयोग चार आधे शेरों की प्रतिमाओं को बैठने के लिए होता था। इन अलंकृत खम्बों को सतम्भ कहा जाता है। (अधिकांश समय इन स्तंभों का उपयोग प्रवेश द्वार फोयर या मंदिरों के सामने बरामदे में किया जाता है)

गुप्त काल के मंदिरों को उनकी स्थापत्य शैली और तत्वों(Elements ) के आधार पर दो अलग-अलग श्रेणियों में वर्गीकृत किया जा सकता है: 

1. प्रारंभिक गुप्त काल (319-550 ईस्वी), इस काल में मंदिरों को सपाट छतों के साथ बनाया गया था।     

  •  भौम का शिव मंदिर और नचना का पार्वती मंदिर इसके उदाहरण हैं।

2.स्वर्गीय गुप्त काल (551-605 ई।), इस काल में मंदिरों को एक सजावटी शिखर के साथ बनाया गया था।

  • जिसके  उदाहरण देवगढ़ में दशावतार मंदिर है।

गुप्त काल की वास्तुकला में वर्गाकार रूप (squre form)  को सबसे उचित माना जाता था। तथा मंदिर सभी रूप से सराहनीय और आसानी से पँहुच योग्य डिज़ाइन किये गए थे। 

ELEMENTS & IT’s IMPORTANCE / तत्व और महत्व

भारतीय इतिहास के अनुसार, पहली शताब्दी (1st Millennium CE) के अंत में दो प्रमुख प्रकार के मंदिरों का अस्तित्व हो सकता है, जिन्हे उनके शिखर, आकार और सजावट से अलग पहचाना जा सकता है।  

  1. उत्तरी या नागरियन शैली
  2. दक्षिणी या द्रविड़ शैली
विष्णु मंदिर-नागर शैली

    विष्णु मंदिर-नागर शैली ©wikipedia

मंदिर के डिज़ाइन में वास्तुकला के आधार पर कई एलिमेंट्स तथा भाग होते है जो की इस प्रकार है :-

  • जगती: यह एक उठा हुआ मंच सतह होती है जिस पर मंदिर स्थापित होता है। 
  • अंतराल: यह गर्भगृह तथा मंडप के बिच एक छोटा फॉयर होता है। उत्तर भारतीय मंदिरो में अंतराल आम रूप से देखने को मिल जाता है। 
  • मंडप: स्तम्भों पर खड़े, एक बाहरी या सार्वजनिक हॉल को मंडप कहा जाता है। मंडप का उपयोग सार्वजनिक अनुष्ठानों के लिए के लिए किया जाता है।  मंडप या मंडपम को हिंदी / संस्कृत में मंतपोरमंडपम के रूप में भी जाना जाता है।
  • गर्भगृह या शरिकोविल: यह शब्द मंदिर स्थापत्य से सम्बंधित है। यह मंदिर का वह भाग होता है जहा देवमूर्ति की स्थापना की जाती है। वास्तुशास्त्र के अनुसार देवमंदिर के ब्रह्मसूत्र या उत्सेध की दिशा में नीचे से ऊपर की ओर उठते हुए कई भाग होते हैं। पहला जगती, दूसरा अधिष्ठान, तीसरा गर्भगृह, चौथा शिखर और अंत में शिखर के ऊपर आमलक और कलश।
  • शिखरा या विनाम: यह हिंदू मंदिर का एक सबसे प्रमुख और दर्शनीय हिस्सा है। यह गर्भगृह के ऊपर एक ऊँची मीनार या टावर होता है जहाँ पूर्ववर्ती या देवता संरक्षित होते है। इसका शाब्दिक अर्थ है 'पर्वत शिखर।
  • अमलाका: यह एक पत्थर की संरचना होती है, जिसे अक्सर लकीरों की आकृति से सजाया जाता है, तथा ये मंदिर के मुख्य टॉवर यानी शिखर पर स्थापित होता है और इसके ऊपर एक कलश भी रखा जाता है।
  • गोपुरम: आमतौर पर यह दक्षिणी भारत के द्रविड़ वास्तुकला में हिंदू मंदिर के प्रवेश द्वार पर सजाया गया एक स्मारक प्रवेश द्वार या भव्य प्रवेश द्वार होता है।

आर्किटेक्चर से संबंधित और रोचक पोस्ट देखने के लिए आप Architecture In Hindi के होम पेज को विजिट कर सकते है। Home page के लिए यहां Click करें।

इस विषय से संबंधित किसी भी प्रश्न के लिए और यदि आप अन्य विषयों पर कोई लेख चाहते हैं। तो कमेंट सेक्शन में हमें सुझाव देने के लिए स्वयं को स्वतंत्र महसूस करें। आप के कमेंट से हमे सदैव उत्साहित होते है।

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ